फाइलेरिया उन्मूलन अभियान के तहत सर्वजन दवा सेवन का किया गया शुभारम्भ


अरवल जिला ब्यूरो बिरेंद्र चंद्रवंशी की रिपोर्ट 

 अरवल। जिला पदाधिकारी वर्षा सिंह द्वारा प्राथमिक विद्यालय मोथा में फाइलेरिया उन्मूलन अभियान के तहत सर्वजन दवा सेवन का शुभारम्भ आज किया गया। जिला पदाधिकारी ने इस दौरान गाँव के लोगों को दवा सेवन के लिए प्रेरित किया और कहा कि सभी लोग फाइलेरिया से बचाव के लिए दवा का सेवन जरूर करें। उन्होंने कहा कि हाथीपाँव गंभीर रोग है। दवा सेवन से ही इससे बचाव किया जा सकता है, लेकिन यदि फाइलेरिया हो जाये तो फिर इसका कोई उपाय नहीं है। उन्होंने स्वास्थ्य अधिकारियों से कहा कि दवा सेवन कराये जाने का लक्ष्य जरूर प्राप्त करें। लक्षित योग्य लाभार्थियों को दवा का सेवन स्वास्थ्यकर्मी अपने सामने करायें। 

फाइलेरिया से जुड़ी भ्रांतियों के प्रति प्रचार प्रसार करें ताकि लोगों में दवा सेवन को लेकर जागरूकता आये। सिविल सर्जन ने कहा कि 10 फरवरी से सर्वजन दवा सेवन अभियान प्रारंभ किया गया। इस अभियान में अल्बेंडाजोल, डीईसी तथा आइवरमेक्टिन दवा का सेवन आशा अपने सामने करायेंगी। तीन दिन स्कूलों पर बूथ लगाकर बच्चों को आयु और लंबाई के अनुसार दवा का सेवन कराया जायेगा। जिले में सर्वजन दवा सेवन के लिए 391 टीम बनायी गयी है। प्रत्येक टीम में दो आशा कर्मी रहेंगी। दो वर्ष से कम उम्र के बच्चों, गर्भवती महिलाओं और गंभीर बीमारी से ग्रसित लोगों को फाइलेरियारोधी दवा नहीं खिलायी जानी है।

 पीसीआई के जिला मोबिलाजेशन कॉर्डिनेडर द्वारा बताया गया कि पीसीआई द्वारा सोशल मोबिलाजेशन का काम किया गया है। स्कूलों के छात्र-छात्राओं के साथ फाइलेरिया रोग तथा दवा सेवन के प्रति जागरूकता के लिए ड्राइंग प्रतियोगिता तथा निबंध लेखन प्रतियोगिता करायी गयी है। इसके अलावा पंचायती राज जनप्रतिनिधियों का उन्मुखीकरण किया गया है। इस मौके पर सिविल सर्जन, जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी, पीरामल स्वास्थ्य के अधिकारी के साथ अन्य मौजूद रहे।