क्षतिग्रस्त विद्यालय भवण में जहरीली सर्प ने डेरा डाला, दहशत


सोनो जमुई संवाददाता चंद्रदेव बरनवाल की रिपोर्ट 

जर्जर हो चुके एक विद्यालय भवण में काफी जहरीला ओर रस्सी जेसा पतली और पांच फीट लंबी सर्प ने क्ई माह पुर्व से अपना डेरा जमाया हुआ है । जिस कारण विधालय में शिक्षा ग्रहण करने वाले बच्चे सहित सभी शिक्षकों में भय का माहौल इस तरह व्याप्त हो गया है कि शिक्षकों सहित सभी बच्चे विद्यालय भवण के अंदर जाना नहीं चाहते , जिस कारण सभी बच्चों को विधालय भवण के बाहर पठण पाठण कराया जा रहा है । ठाढ़ी पंचायत के हरिहरपुर गांव स्थित उत्क्रमित मध्य विद्यालय का छत से सटा चारों तरफ की दिवाल बुरी तरह फटकर छतिग्रस्त हो गया है , जिसमें रस्सी की तरह पतली और लंबी सर्प ने डेरा जमा लिया है । जिसका मुख्य कारण है कि विधालय भवण के कुछ ही मीटर दुरी पर झाड़ियों से घिरा घना जंगल है , जिस कारण जंगल में निवास करने वाले जहरीले सर्प विद्यालय भवण में अपना घर बना लिया है । बुधवार को जब सभी शिक्षक ओर बच्चे विधालय भवण पहुंचे तो फटे दिवाल के अंदर से लटकता एवं बाहर की ओर झांकता हुआ जहरीला सर्प दिखाई पड़ा , जिसे देखते ही शिक्षकों और बच्चे भयभीत होकर विधालय भवण से बाहर निकल गये । हांलांकि ग्रामीणों के सहयोग से उक्त सर्प को लाठियों से पीट पीट कर मार दिया गया । विधालय के प्रभारी प्रधानाध्यापक चंद्रमणी पासवान ने बताया कि इसके पहले भी इसी प्रजाति के एक सर्प को ग्रामीणों द्वारा मार दिया गया है , जिस कारण बच्चे को विधालय भवण के अंदर पढ़ाने में बच्चों सहित सभी शिक्षकों में भी भय उत्पन्न हो गई है । उन्होंने बताया कि इस विधालय भवण के चारों ओर दिवाल फटी होने के कारण दर्जनों सर्प होने की संभावना है । वहीं ग्रामीणों ने बताया कि मारा गया रस्सी की तरह पतली और पांच फीट लंबी सर्प काफी जहरीला ओर छोटा बच्चा है , इसकी लंबाई 10 से 12 फीट तक देखी गई है तथा यह सर्प उड़ने वाले प्रजातियों में हे , क्योंकि यह सर्प बड़े होने पर एक स्थान से दूसरे स्थान पर उड़कर जाते देखा गया है । ग्रामीणों ने आगे बताया कि मारा गया सर्प यदि बच्चा नहीं होता तो इसे मार पाना असंभव ही नहीं बल्कि नामुमकिन भी था । विधालय प्रधान ने नये भवण निर्माण कराने की मांग जिला प्रशासन से की है ताकि शिक्षकों सहित सभी बच्चों को इस जहरीले सर्प से बचाया जा सके ।